शनिवार, 28 फ़रवरी 2015

'' मेरी वफ़ा बदनाम हुई ''

ओ दोस्त बेवफ़ा 


बेवफ़ाई का कलमा लिखा
दोस्त तेरे लिए नज़ीर यही ,

हमें ना बहलाओ लोरी से
बालक नादान नहीं हैं हम
उद्भट विद्वान नहीं फिर भी
इतना भी ज्ञान नहीं है कम ,

शतरंज की गोट बिछाकर
नपुंसक चाल को दाद है दी
इस गुमां में मत रहना दोस्त
तेरे धूर्त विसात ने मात है दी ,

बड़ी बेहया से मेरी अना को
तूने दर्द की जो सौगात है दी
तुझे तेरे किये की मिले सजा
बददुवा तुझे दगाबाज़ जो की ,

ख़ुदा क्या बख़्शेगा तुझे कभी
चतुर चाल पड़ेगी तुझपे भारी
मेरे नये उड़ानों को पंख लगेंगे 
मुबारक तुम्हें तुम्हारी ग़द्दारी ,

तूमने ऐतबार का ख़ून किया
और मेरी वफा बदनाम हुई
ईमान तेरा रोये खून के आँसू
मेरी तल्ख़ जुबां अब आम हुई .
                                    शैल सिंह

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दिखा दो जोश तरुणाई का

ऐ भारत के मेरे  नौजवानों ललकारो  अपने यौवन को  बाधाओं,व्यवधानों  को काटो, संवारो  अपने लक्ष्यों को,    भरो यौवन में साहस,संकल्प करो अद्भुत क...