बुधवार, 20 फ़रवरी 2019

कहीं चाहत न खता बन जाए

कहीं चाहत न खता बन जाए  


अँधेरे पूछते कौतूहल से  
शमा  किसने जलाई है 
पूनम के चाँद सा रौशन 
कर रही मेरी तन्हाई हैं ।

शय्या के हर सलवट में 
सुगन्ध   तेरी  समाई है
अन्तर्मन जड़ चेतन में 
जीवन्त तेरी परछाई है ।

हृदय के अनंत सागर में
लहराते तुम लहरों सा
दमकते कुमकुम जैसे हो
दिवाकर  के किरणों सा ।

घायल हुई दीदार से तेरे 
मन रहता मेरा अवश सा
इंद्रजाल रूपी झील में तेरे
खिला रहता रूप कंवल सा ।

जब भी करती हूँ कोशिश  
लिख तेरा नाम मिटाने की
लगती पेंग मारने प्रीत तेरी
जब करूँ हठ तुझे भुलाने की ।

मन ही मन हूँ लगी पूजने
चेष्टा की जबभी ये बताने की
कहीं चाहत ख़ता न बन जाए
डरा दीं आँखें जमाने की ।

मादक सी आँखों में मेरे 
माज़ी बादल बन घुमड़ता है
बेमौसम बारिश की तरह 
टपाटप अनायास बरसता है ।

कैसे बहलाऊँ पगले मन को
बावरा मन नहीं बहलता है
इस क़दर बसा है तूं सांसों में 
धड़कन बन धड़कता है ।

बेबस बहुत  मोहब्बत है 
उलझन में बहुत है राहत
दुनिया से टकराने की भी 
नहीं उल्फ़त में है साहस ।

तूं घुला धमनियों,शिराओं में 
कहाँ से गले पड़ी मेरी आफ़त
खफ़ा होऊं तुझसे या खुद से
है असमंजस में बुरी हालत ।

      माज़ी--अतीत    
                           शैल सिंह

ईश्क़ में टूटकर बिखर जाना अगर ईश्क़ है

कैसे भूले गली तुम शहर की मेरे निशां अब तक जहाँ तेरे पग के पड़े हैं खुला दरवाजा तकता राह आज तक तेरा खिड़की पे पर्दे का ओट लिए अब तक खड़े हैं ...