बुधवार, 17 दिसंबर 2014

कुछ बंद

कुछ बंद


ऐ ख़ुदा --
                  ना तो हीरे रतन की मैं खान मांगती हूँ
                     चाँद,तारे,सूरज ना आसमान मांगती हूँ
                  मेरे हिस्से की धूप का बस दे दे किला
                      जरुरत की जीस्त के सामान मांगती हूँ ।

फाड़कर ना दे छप्पर कि पागल हो जाऊँ
     रूठकर ना दे मन का कि घायल हो जाऊँ
अपने दुवाओं की सारी कतरनें बख़्श देना
     कि तेरी बंदगी की ख़ुदा मैं क़ायल हो जाऊँ ।

              गुज़ारिश है आँखों में वो तदवीर बना देना
                    मेरी ख़्वाहिशों का मेरे तक़दीर बना देना
             टूटकर कोई तारा फ़लक़ से दामन आ गिरे
                    मेरी बदा में वो ख़ूबसूरत तस्वीर बना देना ।
   
                                                                        शैल सिंह

                
                   

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

रिटायरमेंट के बाद

रिटायरमेंट के बाद-- सोचा था ज़िन्दगी में ठहराव आयेगा  रिटायरमेंट के बाद ऐसा पड़ाव आयेगा  पर लग गया विराम ज़िन्दगी को  अकेलापन,उदासी का चारों...