Saturday, 11 April 2015

देवी उपाधि नहीं मन भाती


जब-जब होती हूँ तनहा 
काटे कटता नहीं जब लमहा
तब-तब कलम सखी बनकर
शब्दों का जामा जाती पेहना  ।

मेरे अनुरागी मानस पर
जब वैराग औ राग उफनते हैं
आँखों के आँसू स्याही बनकर
अंतर का दर्द उगलते हैं ।

नारी शब्द से नफ़रत होती है
अबला नाम से होती घृना
बंधन बिंदिया,पायल,कंगन
ताक़त इनसे होती बौना ।

त्याग,तपस्या,ममता की मूरत
देवी उपाधि नहीं मन भाती
वात्सल्य की मोहरा बन नारी 
बैरी जग से छली है जाती ।

तुझे दुवा दे या करे शुक्रिया अदा
बता ऐ अपराधी,अन्यायी ख़ुदा
आँचल में दूध औ आँख में पानी
क्यों लिखी उसकी ही ऐसी बदा ।

बाँहें पालना अङ्क सुखों की शैय्या
जिसकी गोदी में सुखद बसेरा
दिन-रात जली जो दीपशिखा सी
अंतस में क्यों उसके गहन अँधेरा ।

                                              शैल सिंह