Saturday, 14 February 2015

क्या इसी को कहते वैलेंटाइन


मीठा-मीठा दर्द मिला ,
इश्क चढ़ा परवान ,
ना कोई जिसकी भाषा ,
ना कोई जिसकी जुबान ,
दिल से दिल की आँखों ने ,
पढ़ लीं दिल की दस्तान ,

लगे हसीन समां सारा ,
लगे हसीन जहाँ ,
लगे सुहानी रात चांदनी ,
दिन लगे है पंख समान ,
दिल की लगी का जाने ,
होता है कैसा गुमां ।
                         शैल सिंह