Saturday, 11 August 2018

प्रेम रस की कविता ,प्रेम गीत

'' विरहाग्नि में जली हूँ जैसे रात-दिन मैं सखी ''


उनके आने की खबर जबसे कर्ण में घुली
हे सखि षोडशी हो गईं इन्द्रियां
जलतरंगों सी लहरें उठें तन-वदन
रातें लगने लगी भोर की रश्मियां,   
उनके आने की खबर जबसे कर्ण में घुली
हे सखि षोडशी हो गईं इन्द्रियां,

प्रीत की इक छुअन से पृथक होंगी जब 
लाज,संकोच,शर्म की पारदर्शी चुन्नियां
नेह भर नैन से बस निहारूंगी उन्हें
दृश्य अद्वितीय होगा मिलन के दरमियां,
उनके आने की खबर जबसे कर्ण में घुली
हे सखि षोडशी हो गईं इन्द्रियां,

गर्म सांसों के स्पर्श चूमेंगे नर्म ओष्ठ
आलिंगन से दहकेंगी वदन की टहनियाँ
नस-नस में प्रवाहित जब होंगा प्रेमरस
खिल उठेंगी मरुथल तन की पंखुड़ियाँ,
उनके आने की खबर जबसे कर्ण में घुली
हे सखि षोडशी हो गईं इन्द्रियां,
    
विकल उनको करुँगी मौन संवाद से
मोहिनी चितवनों की गिरा-गिरा बिजलियाँ
विरहाग्नि में जली हूँ जैसे रात-दिन मैं सखी 
मुख पे डाल तड़पाऊंगी घूँघट की बदलियाँ ,
उनके आने की खबर जबसे कर्ण में घुली
हे सखि षोडशी हो गईं इन्द्रियां,

नख से शिख तक सज मैं रिझाऊंगी उन्हें
हाथों की खनका रंग-रंगीली चूड़ियां
कस के बांँधूंगी प्रणय की रेशमी डोर में 
रखूंगी ढांप पलकों बीच जैसे दोनों पुतलियाँ
उनके आने की खबर जबसे कर्ण में घुली
हे सखि षोडशी हो गईं इन्द्रियां।

चुन्नियाँ--ओढ़नी 
सर्वाधिकार सुरक्षित
                     शैल सिंह