Tuesday, 23 May 2017

राम मन्दिर पर कविता

मुख़्यमंत्री आदित्यनाथ योगी जी से एक राम भक्त की गुज़ारिश ,

      '' राम मन्दिर पर कविता ''


भज-भज के सब राम के नाम
साध रहे बस अपने काम
राम सिया के काट रहे दिन छतरी में
बैठे तिरपाल की बखरी में ,

भिंगो रहीं बारिश की बूँदें
तपा रहा तन घाम
हवा के निर्मम आघात सहें
ठिठुर रहे सर्दी में राम
सहा न जाये राज में तेरे
राम का ये अपमान
जल्दी से करवाओ योगी जी
मन्दिर का विशाल निर्माण ,

भौंकने वाले भौंकेंगे
उन्हें भौंकने दीजिये योगी जी
इस बात पे जल्दी अमल कीजिये
साथ में लेकर मोदी जी
कहीं लक्ष्य अधूरा रह ना जाये
जल्दी खोजिये हल समाधान
असली गर्भ गृह पर मंशा
हो मन्दिर का विशाल निर्माण ,

अत्याचारी बाबर की बर्बरता
विध्वंस हुई रघुवंशी भव्यता
हिन्दुओं की आस्था का सवाल
इसपे क्यों विवाद औ मचा बवाल ,
कौशिल्या कोख़ से इसी जगह
लिए राम अद्द्भुत अवतार
अयोध्या हिन्दू धर्म का धाम ,
हो मन्दिर का विशाल निर्माण ,

कुछ से मोर्चा लेना होगा
कुछ से वार्ता का प्रावधान
दरकिनार कर काफ़िरों को
करना तर्ज़ पे सोमनाथ के काम
यही सुनहरा अवसर योगी जी
क्यों देना कोई तथ्य प्रमाण
मर्यादा पुरुषोत्तम राम महान
हो मन्दिर का विशाल निर्माण ,

जिद छोड़ बाबरी मस्जिद की
छोड़ आक्रांता बाबर का गुणगान
सहभागिता निभाएं कर उदार उर
हिन्दुस्तान के सारे मुसलमान
इक अत्याचारी की कारगुजारी पे
हो बंद अब तो क़त्लेआम
राम भक्तों का सुनो फरमान
हो मन्दिर का विशाल निर्माण |

                           शैल सिंह