Friday, 26 September 2014

कुछ क्षणिकाएँ

''हे मेरे अन्तर्यामी''

 जीवन के  सूने स्वप्न सदन में 
 सृष्टि  की  समरसता  भर  दो 
 उद्भ्रान्त पथिक के विवर मन में          
 शाश्वत जीवन का रंग भर दो ,

लगता मेरा दुःख सबका दुःख है 
सबका दुःख मेरा अपना दुःख है 
तभी तो  राग एक  है रंग अनेक 
और भाव एक है बस अंग अनेक ,

हम सब जलती आग के ईंधन हैं 
मरना सबको इक दिन सत्य यही 
क्षणिक मिलन के मोद में भूलें ना 
मिलने औ बिछड़ने के तथ्य कहीं ,

दृढ़ प्रतिज्ञ हों तन-मन से यदि 
तो नहीं असम्भव होता कुछ भी 
जीतनी विकट हो राह लक्ष्य की
पथ हो जाती सुगम कंटकमय भी ,

कभी लक्ष्य नहीं देखता 
   धुप,ताप,छाँह,बिजलियाँ 
      पग चल पड़ते हैं बेपरवाह
         दिशा की खोज में अन्जान 
            चाहे लाख काँटों भरी हों 
               जीवन की हर पगडंडियाँ । 
                                             शैल सिंह