Thursday, 21 February 2013

एक दीवाना ऐसा भी

हटा दो लाज का  पहरा 

    सबर आँखों का जाता है  

         मेरी बेचैन चाहत को 

              अदा नायाब भाता है। 

काली घटा सी जुल्फें 

   क्या बिजली गिराती हो 

       मैं मदहोश हुआ जाता 

          ग़जब चिलमन गिराती हो। 

चुराकर चैन सोती तुम 

     सपन की मीठी बाँहों में 

         पल भर कटी ना रातें

             मगन बोझल निगाहों में। 

अगर तुम ला नहीं सकतीं

   जुबां पर दिल की वो बातें 

      निगाहों से बयां कर देतीं 

         जुबां और दिल की वो बातें।

तेरे खंजर नयन नशीले 

   कहीं जान ना मेरी ले लें 

      सुर्ख लबालब होंठ रसीले    

          मोहब्बत सरेआम ना पीले। 

  ऑंखें मदभरी मधुशाला 

        तिल कातिल गाल गुलाबी है  

           अकारथ ही हुआ मतवाला 

               रंग-ढंग चाल नवाबी है। 

पिलाकर मय निग़ाहों का 

    ना यूं नज़रें झुकाकर चल 

       दबाकर दिल की चाहत को 

          ना दिल को यूं जलाकर चल। 

तुझे देखूं तो आता चैन 

   नहीं तो दिल को बेचैनी 

      क़यामत क्यों हो ढाती यूं 

            बता दो ना वो मृगनयनी। 

रुसवाई का डर है गर 

   गर है ख़ौफ ज़माने का 

       तो बेखौफ इनायत कर 

           कर परवाह दीवाने का। 

 ख़ुदा की कसम ज़न्नत 

     तेरे क़दमों में बिछा दूंगा

       अगर तूं चाँद मांगे जानम 

           ज़मीं पर ला दिखा दूंगा।  

कसीदा तुम गज़ल की हो 

   लय,सुर,ताल नगमों की 

        इन्तेहा प्यार की गर चाहो

            तो ले लो सात जन्मों की। 

कर दीदार जालिम खोल 

   झरोखा दिल के दरपन का

       क्या हालत है रोज़ो-शब

           दीवाने दिल की धड़कन का। 

कहते लोग परेशां मुझको 

   कहाँ एहसास खुद का मुझको 

        हाँ औरों से सुना है जानेमन  

           मेरे हालात मालूम तुझको। 

गर तुम पास होते दिलवर 

    समां का लुत्फ लेते छक कर  

         फिजां भींगी सुहाना मौसम 

              होता गर बांहों में लेते भर कर।  

ख़त लिखना नहीं वाज़िब 

   दिलो-जां में हो तुम रहती 

       तुझे हर हर्फ मालूम ख़त के 

             सांसों  में समायी रहती।  


        रोज़ो-शब----दिन-रात