Sunday, 1 May 2016

आतंक की घृणित विभीषिका पर मेरा अंतर्द्वंद


नित देख जगत का आहत दर्पण
पन्नों पर मन का दर्द उगलतीं हूँ
कब होगा जाने जग प्रफुल्ल अब
सोच कविता में मर्म विलखती हूँ ,

काश व्यथित करतीं शोहदों को
आतंक की चरम घृणित क्रीड़ाएं
कोई मुक्तिदूत बनकर आ जाता
हर लेता जग की क्रन्दित पीड़ाएँ ,

कभी गर घोर निराशा के क्षण में
कहीं से छुप झांक पुरनिमा जाती
पुनः अगले पल कुछ घट जाता रे
जैसे ही सुख भर पलकें झपकाती ,

जब-जब हँस उषा की लाली देखा
कलह की सुख पर चल गई आरी
फिर काली निशा हो गई डरावनी
सुनकर कुत्सित षड्यंत्र की क्यारी ,

उठती भाटे जैसी हिलोर हृदय में
व्यूह तोड़  लहरों में बह जाने को
जग का दुर्दिन हश्र देख मचलता
विवश कंगन कटार बन जाने को ,

अलग-अलग भावों का रुख होगा
गर आपस में ही लड़ते रह जायेंगे
जो भी आदि बची हा दीन दशा में
कलुष विद्वेष सोम विष कर जायेंगे ,

मची कोलाहल सुरभित जीवन में
सर्वत्र चीत्कार रही गलियाँ-गलियाँ
भय से भूल गए खग पक्षी कलरव
उषा दहशत में निर्वाक सी दुनियाँ  ,

खलल शांति अमन को निगल गई
डोलते निर्जन नीड़ों में चमगादड़
नभ कण भी बरसा रहे अश्रु बिंदु
मची हुई चहुँदिशा भीषण भगदड़ ,

यदि बस में होता गर कुछ भी मेरे
भरती जग आँचल सुख का सागर
मिटा तमिश्रा उर-उर की,धर देती
अधरों-अधरों किसलय का गागर ,

सुख समरसता ठिठक गई मानो
पथभ्रष्टों की निर्भीक निर्दयता से
हो रही प्रकम्पित धरणी,अणु भी
मस्तिष्क की दुर्भिक्ष दानवता से ,

विक्षिप्त मानसिकता की जद में
जगत की दिनचर्या धधक रही है
लगता बहुत अनर्थ है होने वाला
निर्बाध दाईं आँख फड़क रही है ,

चैतन्य हो जाओ अरे सोने वालों
नव प्राण फूंकना मृत स्पंदन में
समता की करनी है मुखर वाणी
शंखनाद गूंजे निस्सीम गगन में ,

बेवजह दहक रही दुनिया सारी
आतंकवाद की भीषण लपटों से
कहीं 'तू-तू ' 'मैं-मैं' के विलास में
मिट ना  जाएँ आपसी कलहों से ।

सोम--अमृत

                               शैल सिंह