Tuesday, 23 June 2015

फ़तह की चिट्ठी सीमा से घर आई है









'' फ़तह की चिट्ठी सीमा से घर आई है''


डर सताती रही ख़ौफ़ की हर घडी
फ़तह की चिट्ठी सीमा से घर आई है
मन मतवाला गज सा हुआ जा रहा
ख़ुशी चल एक विरहन के दर आई है ,

बिछ गए हर डगर पर पलक पांवड़े
उनके आने की जबसे खबर आई है
सरसराहट हवा की प्रिय आहट लगे
उनके कदमों की ख़ुश्बू शहर आई है ,

महकने लगी हर दिशा हर गली आज़
जिस्म का उनके चन्दन पवन लाई है
लीन सांसें आज़ स्वागत में पागल हुईं
कोई राह रोके ना जिंदगी भवन आई है ,

उठे निष्पन्द वदन में भी अंगड़ाइयां
सूनी अँखियों में अंजन संवर आई है,
मन का हिरना कुलांचे भरने लगा है
मन समंदर में हलचल लहर आई है ,

भोली आशाएं कबसे तृषित थीं सनम
वही परिचित सा झोंका जिगर भाई है
चाँद,तारों,सितारों की बारात का बिंब
लगे नीले नभ से धरा पर उत्तर आई है ,

मुख मलिन था दिखाता सदा आइना
उसी में सौ रंग ख़ुशी के नजर आई है
तार झंकृत दृग के इक झलक वास्ते
पथ निरख हर बटोही के गुजर आई है ,

सज कलाई में सावन की चूड़ियाँ हरी
बोल अधरों पर कजरी का भर लाई है
कितने कुर्बा हए सुहाग वतन के लिए
गेह इस सधवा की रोली मगर आई है ,

                                    शैल सिंह