Saturday, 14 June 2014

जिंदगी का मक़सद

 हिमाञ्चल प्रदेश में व्यास नदी में जो समाहित हो गए ,
 उनके परिजनों का यह विलाप 

छीनकर इस जिंदगी का मक़सद ओ आफ़रीदगार 
दस्ते गुरबत में डुबोकर क्या मिला परवरदिगार 
जीस्त जिसपे वारा था कहाँ ले गया ये आबशार 
हैरतज़दा भी हैफ़ भी रूठी किस्मत दिल आज़ार । 

 आफ़रीदगार--सृष्टि कर्ता 
 दस्ते गुरबत --दुखों के संसार में 
जीस्त --जीवन  , आबशार--जल प्रपात 
हैफ़ --अफ़सोस  , आज़ार --दुःखदायी ।