Saturday, 17 May 2014

अप्रत्याशित कीर्तिमान स्थापित हुआ है

अप्रत्याशित कीर्तिमान स्थापित हुआ है 


कहाँ लिखा है किस बाइबिल में और गीता,ग्रन्थ,कुरान में 
खून,पानी में अंतर होता हिन्दू,सिख, ईसाई,मुसलमान में। 

देश के लिए जनादेश का यह रुझान देखिए 
हर गढ़ में खिला कमल का निशान देखिए 
बह गए लहर में मोदी के हर वो बाँध देखिए 
कैसा जननायक दिया जनता ने है देश को 
अप्रत्याशित कीर्तिमान का ईनाम  देखिए
किस कद को दिया सत्ता का कमान देखिए
मत का तोहफ़ा दिया है कैसा सम्मान देखिए 
क्षितिज पर उदयभान नया हिंदुस्तान देखिए 
विश्व के मानचित्र पर चमकते हुए भारत का 
मोदी रचेंगे जो इतिहास वो शुभ विहान देखिए । 

ममता चोंकर रही है कहीं माया का सा हाल ना हो जाये
आज़म चुप रहिये कहीं तंज कसना ना मंहगा पड़ जाये
बहुत डाल लीं फर्क,दरारें अंज़ाम ने हैरत में डाला होगा
जनाधार खिसक क्यों गया पाले से कुछ तो खंगाला होगा
भड़काने की अब छोड़ छिछोरी हरकत चुप बैठिये घर में
वरना कहीं ना मिट जाये नामो निशां रहिये शांत भंवर में ।

मुँह का जायका बिगड़ गया सियासत पर रोटी सेंकने वालों का
रस्सी जल गयी ऐंठन नहीं गया झूठी हेंकड़ी बघारने वालों का
जनता ने मज़ा चखा दिया कहाँ राह बता दिया है नक्कालों का
घर बैठकर टी.वी.देखो कैसा क़ाफ़िला निकला वी.जे.पी.वालों का ।
                                                                   
                                                                                      शैल सिंह