Wednesday, 2 January 2013

''कालखंड की बातें''

सब कुछ आज है पास मेरे 
  नहीं जो साथ रहा करते थे 
    हम बाबूजी की पर्णकुटी में 
      आनन्द विहार किया करते थे \
                                       
                                      थोडा ही सुख था तो भी क्या 
                                         दुःख थोड़ा ही किया करते थे 
                                            बैठ कुटुम्ब कबीला संग ,नव 
                                               प्रेरक सद्दभाव बहा करते थे \

अभावग्रस्त था जीवन फिर भी  
   लघु दीप जला करते आदर्शों के 
       अनुकम्पा असीम देवों  की बरसती 
          लक्ष्य होते बस घर,रोटी,वस्त्रों के \

                                       नत शीश हृदय से आंजुरियां 
                                          प्रभु का आह्वान किया करते थे 
                                             देवत्व,साधना,तप,स्तुति में नयना 
                                                शाश्वत सुख अभिराम किया करते थे \

तृप्ति थी संतुष्टि अपार भी
  अवसाद नहीं दबाव था कोई
     नेह,दया,अनुराग अलख भाव
       मन आंगन करूणा पूंजी बोई \

                                        नहीं ईर्ष्या,द्वेष,क्लेश किसी  से
                                           नहीं भय,दंभ,लोभ था कोई
                                              पाट की खाट पे सारी रतिया
                                                 सबने सुख की निंदिया सोई \

साधन,संपत्ति,समृधि सब कुछ
   हृदय घट ही क्यों है रीत गया
      जिस पनघट पर सब मिलते थे
         अलमस्त आलम कहाँ मीत गया \
                                               
                                             मनवांछित वैभव के रस में पग
                                                प्रशांत नगर ही बह गया कहीं
                                                   तनावग्रस्त,दुःख,घोर,यातना में
                                                       संसार निराला ही ढह गया कहीं \

विश्वास,आस्था,नेह,आनन्द
  निर्वासित हो गए जीवन से
     शांति ने ली वनवास सदा की
         हुए संग्रह प्रत्याशा में निर्धन से \

                                             अंतर्मुखी लोक का बुर्ज ढह गया
                                                 बहिर्मुखी दुनियाँ का वरण कर
                                                    फिर क्यों घोर निराशा,नीरस मन
                                                         मिला जो सुख तज,निज तर्पण कर \

उपलब्धियाँ थीं जीरो जब तक
  अनगिनत विभूति के मालिक थे
     आकंठ मिठास थी रिश्तों में भी
        पूर्व की निधियाँ दीर्घकालिक थे \

                                              बिखरी संस्कारों की सब कड़ियाँ
                                                  बैरी अहंकार नरेश के शासन में
                                                      मूल्यों का चीरहरण प्रत्यक्ष हो रहा
                                                          निर्लज्य होती असभ्यता के हाथों में \

व्यर्थ लालसा,कामना,तुलना में
   मानवता भंवरजाल फंस खोई
      अंतहीन सम्पदा की ख्वाहिस
         बुनता खुद मंकड़जाल हर कोई \

                                               ना लेकर जग में आया कुछ कोई
                                                   ना लेकर ऊपर कोई कुछ जाना है
                                                       गया सिकंदर भी खाली हाथों बंधु
                                                            मूलमंत्र निहित जग जाना-माना है \

पद का मद समृधि की सत्ता
   सामर्थ्य शक्ति और भौतिकता में
      बेमानी हो गए नाते बातें सारी
          कर्ता बोध,लोप अकर्मण्यता में \

                                                 छोड़ प्रलोभन संग्रह का साथी
                                                     सीखो जीवन खुशहाल बनाना रे
                                                         बस अभिरक्षक,संरक्षक बनकर
                                                             साथी न्यासी का फर्ज निभाना रे \