Wednesday, 21 August 2013

     ''ग़जल'' 

''ये नक़ाब'' 

चलती थी सडकों पे बेनक़ाब
    हुस्न ने परदा गिरा दिया
       जब याद जमाने ने मुझे
          उम्र का दरजा दिला दिया।
कैद कर लो हिज़ाब में
    शोख अदाएं ये मस्त जवानी
       कह -कह कर बुजुर्गों ने मेरे
           जिस्म का जर्रा जला दिया।
मुड़-मुड़ के देखते थे लोग
     जिस गली से कूच करती थी
         मेरी बेबसी का ऐ खुदा तूने 
            अंजाम ये कैसा सिला दिया।
इस नालाकश में बताईये ज़नाब
     मुस्कुराएँ तो भला हम कैसे
         कहाँ से आई ये पागल शवाब
            जो हमें परदा नशीं बना दिया।
रुख पे कैसा लगा ये रुव़ाब
   किन अल्फाज में कहूँ लोगों
       इस बेकसूर हूर को बस
          तसब्बुर का आईना बना दिया।

                                          शैल सिंह