Sunday, 18 September 2016

रत्ती भर परवाह नहीं ,

उरी कश्मीर में अपने १७ जवानों की शहादत और घायल हुए जवानों की खबर से आत्मा दुःख से चीत्कार रही है ,आक्रोश इतना कि चुन-चुन-कर गिन-गिन कर एक-एक को मन हो रहा है चुटकी से मसल-मसल कर इनकी जन्नत जाने वाली अछूत शरीर को आग लगाकर उस पर मैला डाल दें , जवानों के माँ,बाप,बहन,पत्नी बेटी का क्या हाल हो रहा होगा ,हम सिर्फ प्रतिक्रियाएं व्यक्त करते हैं लिख,बोलकर भड़ास निकालते हैं फिर कुछ दिन बाद ऐसा दर्द भूल जाते हैं लेकिन फिर ऐसी ही वारदात दुहराई जाती है ,जहर का घूंट कब तक पीते रहेंगे हिंदुस्तान का वह तबका कहाँ गया जो हमेशा विरोधाभाषी बातें करता रहता है कहाँ गए ओवैसी और कश्मीर के अलगाववादी नेता वो विरोधी पार्टियां जिनकी लंबी-लंबी जुबानें चार हाथ बाहार निकलकर भड़काने वाली बातें करती हैं ,यदि आज अभी कोई कारगर कदम उठाया जाय तो चों-चों करने के लिए सभी पार्टियां दुश्मनों की तरह एक मंच पर आ जाते हैं मोदी जी के ख़िलाफ़ आवाज उठाने  के लिए ,यदि सभी हिंदुस्तानी एक मत से ऐसी घटनाओं के निराकरण के लिए आवाज बुलंद करें सभी अराजक तन्तुओं के आचरण का बहिष्कार करें ,देश के प्रति सब एकजुट हो जाएँ तो क्या मजाल कोई आँख दिखाए ,बहुत ही आहत हृदय हुआ है ,सभी सीमाओं पर अपोजिट बोलने वाले नेताओं के दुलारों को तैनात कर उनके जनाजे का नजारा देखना चाहिए ,दाल,पेट्रोल,किराया भाड़ा पर बोलना गरीबों को अनपढ़ों को भड़काना तो बड़ा अच्छा लगता है शहीदों और सेनाओं के लिए क्या होना चाहिए उसकी रत्ती भर परवाह नहीं ,सारे मिडिया वालों और पत्रकारों की कलम और जुबान भी शहीद हो गई शहीदों के साथ ।
         
                                                                                 शैल सिंह