Tuesday, 7 July 2015

कुछ कड़ियाँ ये भी


          ( १ )

पागल दिल तेरी शीशे से नाजुक दीवारें
क्यों समझता नादान टूट जाने के बाद
क्या पता तुझको तेरी क्या अहमियतें
क्यों जोड़ता किरिचें फुट जाने के बाद ।
                                             

                                                           शैल सिंह


        ( २ )

दंभ, गरूर, घमण्ड, अहंकार, अभिमान, मय
जिसके व्यक्तित्व का हो ये आभूषण, वो उनको मुबारक
करुणा, दया, प्रेम, सहिष्णुता, सदाशयता
जैसे सद्गुण और भाव गहना बने शैल तेरे व्यक्तित्व का ।
                                             
                                                           शैल सिंह