Saturday, 25 August 2012

                                     'सीपी की मोती'

हमराह में साथी नहीं संगी कोई अपना 
भरे जो रंग गहबर सा अधूरा ही रहा सपना ।
     मिले मंजिल मेरी मुझको 
         अभिलाषायें भटकती हैं 
              महत्वाकांक्षा रही सिसकती 
                  उमर पल-पल गुजरती है ।
गगन के सितारों सी चमकने की कल्पना थी
जमीं पर पांव चाहत चाँद छूने की तमन्ना थी ।
     अपनों ने दिखा दिवा सपना
         कंचन सा विश्वास ठगा मेरा
             खुद की धुरी के चारों ओर
                 बस डाल रही अब तक फेरा
घायल मन की व्याथा मिटा यदि कोई बहलाता
चाहे अनचाहे सपनों की यदि मांग कोई भर जाता ।
       सागर से भरी गागर है
           मन रीता-रीता सा ही
               मोती सी तरसती तृष्णा
                   घर संसार सीपी सा ही
टूटे साजों पर गीत अधूरे किस्मत काश संवर जाये
चाहत पर चातक की शायद स्वाती की बूंद बरस जाये ।
      कस्तूरी जैसी महक मेरी
         ये जागीर ना देखा कोई
             असहाय साधना की राहें
                 ऐसी तरुण कामना खोई
घरौंदों को आयाम मिले कब किरन भोर की आयेगी
कब कसौटियों पर खरी उतर शख्सियत गर्द मचायेगी ।
       विराट कलाओं की पूँजी
           रेतमहल सी धराशाई
               क्या सपनों का सिंगार करूँ
                   मधुमय मादकता अलसाई
नगीना कुंदन सा निखरता यदि होता जौहरी कोई
कीचड़ में खिला कमल ड्योढ़ी मंदिर की सौंजता कोई ।
      मजबूर अभावों में पल-पल
          लीं कोमल उड़ाने अंगड़ाई
              कद्रदान तराशे होते अगर
                 इन उद्द्गारों की सुघराई
अब समर्थ किस काम अहो शाम ढली सूरज की
हे री मन वींणा की चिर पीड़ा झंकार उठी धीरज की ।
       कहाँ चाह पहाड़ों के कद सी
           कब मांगी सूरज के तेवर
               घटते वसन्त लघु जीवन के
                   कहाँ मन के धरूँ धन-जेवर
हाशिए पे रखने वालों कभी ना आंकना कमतर
खुद में ऐसी रवानी पानी सी राह बना लेगी बहकर ।